गैरों का सुख उसके बिगड़े मन को भाए कैसे -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

दीप जलाकर गीत खुशियों के गा लेंगे ! 


बिगड़ा हुआ सारा काम हम बना लेंगे ! 


तुम हैरान क्यों हो रहे हो इस ज़माने में ! 


हम ज़माने को अपने अनुकूल बना लेंगे !! 


*************************


मेरी ज़िंदगी का दर्द उसे समझ में आए कैसे ! 


गैरों का सुख उसके बिगड़े मन को भाए कैसे ! 


संस्कार और अनुशासन तो है ही नहीं उसमें ! 


उसका दिल सुकून का एहसास पाए कैसे !! 


*************************


मेरी खुशी का कोई पैमाना तो समझो ! 


बिगड़ा है किस कदर ज़माना तो समझो ! 


इंसानियत का पाठ मैं सिखाना चाहूं तुमको ! 


मगर तुम मेरे दिल का तराना तो समझो !! 


*************************


मुझे घड़ियाली आंसू बहाना नहीं आया ! 


किसी को मुश्किल में फंसाना नहीं आया ! 


ज़माने के रवैये से बहुत एतराज है हमको ! 


कदम चल रहे हैं फिर भी ठिकाना नहीं आया !!


*************************


हमारी ख्वाहिशों का मोल मत लगाना ! 


प्यार जता कर मुझसे दूरी मत बनाना ! 


बड़े क़ीमती हैं जज़्बात मेरे समझ लेना ! 


प्यार के रिश्तों को कभी ठेंगा मत दिखाना !! 


****************** तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
गजलों की महफ़िल की 28 वी कड़ी में लुधियाना के प्रख्यात शायर सरदार हरदीप सिंह विरदी ने हिंदी उर्दू की बेहतरीन गजलों से महफ़िल में चार चांद लगाया,जमकर लोगो ने की हौसला अफजाई
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image