दामन रहे बेदाग तेरा क्रीम ऐसी नहीं हकीम के पास -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

तेरे चेहरे का दाग़ तो कुछ महीनों में गायब हो जाएगा ! 


हां मगर तुम्हारे चरित्र का दाग़ ताउम्र नहीं छूटने वाला !! 


*************************


हंसते मुस्कुराते यूं तो बड़ी शान से कटी है अब तक की उम्र मेरी ! 


जिंदगी के सफ़र में कोई दाग़ ना लगे दामन पर बस यही ख्वाहिश है !! 


*************************


दाग़ ना लगे कोई ताउम्र आदमी की ज़िंदगी में ! 


सच कहूं जो बड़ी बात है इस दौर में बेदाग होना !! 


*************************


नमक रोटी खाकर मुस्कुराते हुए चल दिए जहां को छोड़कर ! 


मक्कारी का सहारा नहीं लिया कभी इतने खुद्दार थे वो !! 


*************************


बेदाग होकर महफ़िल में ठहाके लगा रहा था एक फकीर ! 


तमाम रईसजादे उसके चेहरे की मुस्कान के कायल निकले !! 


*************************


यूं तो दुनिया की नज़र में तेरा दामन दाग़दार है ! 


मगर तू बेदाग है खुद की नज़र में यही अच्छा है !! 


*************************


दाग़ धब्बों के लिए तो बहुत सी क्रीम है दवा खाने में ! 


दामन रहे बेदाग तेरा क्रीम ऐसी नहीं हकीम के पास !! 


***************** तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
परशुरामाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी श्री सुदर्शन महाराज द्वारा सम्मानित हुए —कवि डॉ० तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
महात्मा गांधी की पोती है अमेरिकी नागरिक, जीती है ग्लैमरस लाइफ,कांतिलाल गांधी की है पुत्री
Image
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
ग़ज़लों की महफ़िल (दिल्ली ) ने आयोजित किया शानदार ऑनलाइन वीडियो मुशायरा,देश के कई नामी शायरों ने जूम एप के माध्यम से शिरकत किया
Image