हंसना बड़ा कठिन होगा इस पत्थर की दुनिया में -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

दुनियादारी का खेल आसान नहीं है प्यारे ! 


दिल से ज्यादा दिमाग़ से खेलना पड़ता है !! 


*************************


तलाश है तुमको गुरु की जो दुनियादारी सिखाए ! 


मेरा मानो तो गुरु नहीं ये दुनिया खुद सिखा देगी !! 


*************************


दुनियादारी का ज्ञान अगर कुछ भी नहीं है तुमको ! 


हंसना बड़ा कठिन होगा इस पत्थर की दुनिया में !! 


*************************


मासूम बच्चे जब दुनियादारी की गणित सीख जाएंगे ! 


मैं पूछता हूं बताओ बच्चों के पापा का क्या हाल होगा !! 


*************************


यह ज़माना मेरे साथ ना तो हंसने को तैयार है ना ही रोने को ! 


मतलब यही समझो मुझे दुनियादारी का ज्ञान नहीं है कुछ भी !! 


*************************


दुनियादारी सीखने के लिए गुरु को फीस नहीं देते बेटा ! 


दुनियादारी का ज्ञान किस्तों में खुद बांटती है दुनिया !! 


*************************


आओ तुम्हें एक क़िस्सा सुनाते हैं बचपन का ! 


दुनियादारी में शायद बचपन भूल गया तुमको !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
सहजयोग नेशनल ट्रस्ट, नई दिल्ली द्वारा पूरे भारत में कुण्डलिनी जागरण के माध्यम से आनलाइन ‘‘लाइव आत्मसाक्षात्कार, का आयोजन
Image
बस्ती जनपद का स्थापना दिवस मनाया गया, एमएलसी सुभाष यदुवंश ने काटा केक,हुई भव्य आरती, कवि सम्मेलन,
Image