हंसना बड़ा कठिन होगा इस पत्थर की दुनिया में -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

दुनियादारी का खेल आसान नहीं है प्यारे ! 


दिल से ज्यादा दिमाग़ से खेलना पड़ता है !! 


*************************


तलाश है तुमको गुरु की जो दुनियादारी सिखाए ! 


मेरा मानो तो गुरु नहीं ये दुनिया खुद सिखा देगी !! 


*************************


दुनियादारी का ज्ञान अगर कुछ भी नहीं है तुमको ! 


हंसना बड़ा कठिन होगा इस पत्थर की दुनिया में !! 


*************************


मासूम बच्चे जब दुनियादारी की गणित सीख जाएंगे ! 


मैं पूछता हूं बताओ बच्चों के पापा का क्या हाल होगा !! 


*************************


यह ज़माना मेरे साथ ना तो हंसने को तैयार है ना ही रोने को ! 


मतलब यही समझो मुझे दुनियादारी का ज्ञान नहीं है कुछ भी !! 


*************************


दुनियादारी सीखने के लिए गुरु को फीस नहीं देते बेटा ! 


दुनियादारी का ज्ञान किस्तों में खुद बांटती है दुनिया !! 


*************************


आओ तुम्हें एक क़िस्सा सुनाते हैं बचपन का ! 


दुनियादारी में शायद बचपन भूल गया तुमको !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
पत्रकार समाज मे फैली बुराईयों को दूर करने के साथ-साथ स्वच्छ समाज का निर्माण करता:-राज्य सूचना आयुक्त
Image
नेशनल एंटी चाइल्ड लेबर डे” पर बच्चों ने स्वयं बच्चो के लिए उठायी आवाज
Image
राम मंदिर निर्माण हेतु मोदी ने किया भूमि पूजन,पांच सौ बर्षों से चल रहे विवाद का हुआ सुखद अंत,पारिजात वृक्ष का पौधा भी रोपा गया
Image