आज़ाद पंछी की तरह मेरी भी चाहत है उड़ने की -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


आज़ाद पंछी की तरह मेरी भी चाहत है उड़ने की ! 


कोई चमत्कार हो ऐसा की चाहत साकार हो जाए !! 


*************************


आज़ाद भारत की एक तस्वीर हमें खटकती है !


मां-बाप की आज़ादी पर अंकुश लगाते हैं बच्चे !! 


*************************


हमें स्वच्छंदता नहीं चाहिए कभी भी आत्मीय पारिवारिक रिश्तों के बंधन में ! 


आज़ाद होकर भी हमें मां-बाप की ख्वाहिशों का बंधन मंजूर है ख़ुशी - ख़ुशी !! 


*************************


नहीं है अंकुश तुझ पर फिर भी तेरे उड़ान की एक सीमा है ! 


आज़ाद होने का मतलब यह नहीं कि अनुशासन से दूर हो जाओ !! 


*************************


आज़ाद भारत का सपना देखते थे हमारे पूर्वज कभी ! 


आज कथित आज़ादी से भी ढेरों शिकायत है हम सबको !! 


*************************


तुम्हें देशभक्तों के त्याग की अहमियत का अंदाजा नहीं शायद ! 


आज़ाद होकर अपनी ज़िंदगी गुजारते रहना कितना क़ीमती है !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
ऑन लाईन कार्यक्रमों को बढ़ावा,वर्तमान समय की मांग
Image
गुरु अर्जन देव जी का 415 शहीदी वा गुरपूर्व बड़े ही श्रद्धा एम सादगी के साथ मनाया गया
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
उत्तर प्रदेश में COVID-19 के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों से जुड़ी सरकारी योजनाओं और सुविधाओं पर समझ बनाने हेतु राज्य स्तरीय परिचर्चा का हुआ आयोजन
Image
बस्ती में नाइट कर्फ्यू का आगाज,रात 9बजे से सुबह 6बजे तक रहेगा कर्फ्यू,आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी व्यक्तियों के आने-जाने पर रोक,
Image