तेरी आंख का आंसू देख हैरान हो गया मैं -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


हमें तुमसे मोहब्बत है कितनी कैसे बताऊं ! 


तेरी आंख का आंसू देख हैरान हो गया मैं !! 


*************************


ग़म और ख़ुशी का इजहार करो या ना करो मुझसे ! 


तुम्हारे दिल का हाल तुम्हारे आंसुओं से पढ़ सकता हूं !! 


*************************


कभी अपने आशियाने से निकल मेरी हवेली में भी आओ ! 


ज़िंदगी का सारा किस्सा मेरी आंख के आंसू बता देंगे तुमको !! 


*************************


तुम्हारे दिल के बाज़ार में मेरे आंसुओं की कीमत नहीं है कुछ भी ! 


मगर इतना समझ लो मेरे गम के आंसू में डूबे तो फिर निकल ना पाओगे !! 


*************************


मेरे दर्द का किस्सा सुनाते फिर रहे हो सरे बाज़ार तुम ! 


शायद मेरा दर्द खरीदना चाहो तो कंगाल हो जाओ तुम !! 


*************************


हमारी आंख के आंसू बहुत कुछ बता देंगे तुमको ! 


तुम्हारी काबिलियत हमें कितना पहचान पाते हो !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की 67 वी जयंती पर राजभवन बस्ती में हुए विभिन्न कार्यक्रमो ने लोगो का मन मोहा, हुआ पुस्तक विमोचन
Image
बस्ती के नए पुलिस अधीक्षक बने गोपाल कृष्ण चौधरी, 2016बैच के है आईपीएस अधिकारी,
Image
परशुरामाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी श्री सुदर्शन महाराज द्वारा सम्मानित हुए —कवि डॉ० तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
संसार के चिरंजीवी महापुरुषों में एक नाम परशुराम –कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image