साहित्य, ग़ज़ल:- मुफ़लिसों पर ज़ुल्म होते देखकर आँख से शोले गिराती चाँदनी--शायर  - बलजीत सिंह बेनाम


ग़ज़ल


बहर - बहरे-रमल मुसद्दस महज़ूफ़


वज़्न - 2122--2122--212 


अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन 


 


जब ख़ुशी से झूम जाती चाँदनी


हाथ तारों से मिलाती चाँदनी


 


तीरगी में शख्स इक बैठा हुआ


कहकहे उस पर लगाती चाँदनी


 


मुफ़लिसों पर ज़ुल्म होते देखकर


आँख से शोले गिराती चाँदनी


 


आसमां पर तो कोई सोता नहीं


किसलिए चादर बिछाती चाँदनी


        शायर बलजीत सिंह बेनाम


       जन्म तिथि:23/5/1983


       शिक्षा:स्नातक


        सम्प्रति:संगीत अध्यापक


        उपलब्धियां:विविध मुशायरों व सभा संगोष्ठियों में काव्य पाठ


विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित


विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित


सम्पर्क सूत्र: 103/19 पुरानी कचहरी कॉलोनी, हाँसी


ज़िला हिसार(हरियाणा)


मोबाईल नंबर:9996266210


 


Popular posts
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image
नेहरू युवा केंद्र द्वारा ब्लॉक स्तरीय खेल प्रतियोगिता का हुआ आयोजन
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
करनपुर गांव में अपर मुख्य सचिव अमित मोहन, मुख्य विकास अधिकारी सरनीत कौर ब्रोका, हर्र्रैया के उप जिलाधिकारी प्रेम प्रकाश मीणा आदि ने पौधरोपण किया
Image