साहित्य, ग़ज़ल:- मुफ़लिसों पर ज़ुल्म होते देखकर आँख से शोले गिराती चाँदनी--शायर  - बलजीत सिंह बेनाम


ग़ज़ल


बहर - बहरे-रमल मुसद्दस महज़ूफ़


वज़्न - 2122--2122--212 


अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन 


 


जब ख़ुशी से झूम जाती चाँदनी


हाथ तारों से मिलाती चाँदनी


 


तीरगी में शख्स इक बैठा हुआ


कहकहे उस पर लगाती चाँदनी


 


मुफ़लिसों पर ज़ुल्म होते देखकर


आँख से शोले गिराती चाँदनी


 


आसमां पर तो कोई सोता नहीं


किसलिए चादर बिछाती चाँदनी


        शायर बलजीत सिंह बेनाम


       जन्म तिथि:23/5/1983


       शिक्षा:स्नातक


        सम्प्रति:संगीत अध्यापक


        उपलब्धियां:विविध मुशायरों व सभा संगोष्ठियों में काव्य पाठ


विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित


विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित


सम्पर्क सूत्र: 103/19 पुरानी कचहरी कॉलोनी, हाँसी


ज़िला हिसार(हरियाणा)


मोबाईल नंबर:9996266210


 


Popular posts
प्रतिकार फिल्म चौरी चौरा 1922 में सांसद रवि किशन की दमदार भूमिका,, सीन देख कर दर्शकों की विभिन्न प्रतिक्रिया
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
श्रमजीवी पत्रकारों के देशव्यापी शीर्ष संगठन आईएफडब्ल्यूजे का 70 वां स्थापना दिवस मनाया, यूपी प्रेस क्लब में हुआ आयोजन
Image
विश्व पोलियो उन्मूलन दिवस पर रोटरी क्लब बस्ती मिडटाउन व इनरव्हील क्लब बस्ती मिडटाउन द्वारा पोलियो विजय दिवस समारोह का हुआ आयोजन
Image