लाक डाउन लंबा चलने पर आईटी सेक्टर में खतरा, नौकरियां जाने की संभावना


हैदराबाद: नैस्कॉम के पूर्व अध्यक्ष आर चंद्रशेखर का मानना है कि कोविड-19 महामारी की वजह से यदि लाक डाउन लंबा चलता है, तो IT सेक्टर में नौकरियों में कटौती हो सकती है. चंद्रशेखर ने कहा कि घर से काम लॉन्गटर्म में एक सकारात्मक पहलू हो सकता है. इससे आईटी कंपनियों के लिए नए रास्ते खुलेंगे और उनके निवेश में बचत होगी.


पूर्व नौकरशाह ने कहा कि यदि मौजूदा स्थिति और खराब होती है तो स्टार्टअप्स के लिए दिक्कत आ सकती है. स्टार्टअप कंपनियां उद्यम पूंजीपतियों से मिले कोष से चल रही हैं.


उन्होंने कहा कि बड़ी कंपनियां दो वजहों से नौकरियों में कटौती नहीं करेंगी. एक तो वे अपने कर्मचारी नहीं गंवाना चाहती हैं. दूसरा उनके पास कर्मचारियों को देने के लिए धन की कमी नहीं है.


चंद्रशेखर ने कहा कि कुछ बड़ी कंपनियां यदि नौकरियों की कटौती करती भी हैं, तो वे अस्थायी या इंटर्न कर्मचारियों को हटाएंगीं. उन्होंने कहा कि जब तक इन कंपनियों की जेब अनुमति देगी, वे नियमित और स्थायी कर्मचारियों को नहीं हटाएंगी.


हालांकि, इसके साथ ही चंद्रशेखर ने कहा कि यह इस बात पर निर्भर करेगा कि यह स्थिति कब तक रहती है. एक महीने, दो महीने या तीन महीने. उसके बाद ये कंपनियां भी दबाव में आ जाएंगी. कंपनियां अपने कर्मचारियों को सब्सिडी देना जारी नहीं रख सकती हैं. चंद्रशेखर ने PTI से कहा कि सवाल यह है कि ऐसी स्थिति कब तक रहती है.


उन्होंने कहा कि दुनिया के कई देशों में कर्मचारी घर से काम कर रहे हैं. लघु अवधि में इसका उद्योग पर नकारात्मक असर होगा. लेकिन भविष्य में यह कार्य संस्कृति में ऐसा बदलाव लाएगा, जो भारत में आईटी कंपनियों ने अभी तक अनुभव नहीं किया है.
चंद्रशेखर ने कहा कि भविष्य में वर्क फ्रॉम होम से कर्मचारी की उत्पादकता, लॉजिस्टिक्स लागत और कार्यालय स्थल की बचत होगी.


Popular posts
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
सेंट एंथोनी कॉन्वेंट स्कूल डेयरी कॉलोनी गोरखपुर में महात्मा गांधी एवं लाल बहादुर शास्त्री जी के जन्मदिन पर गीत संगीत और नृत्य का हुआ आयोजन
Image
ईमानदारी का मिसाल बना ऑटो चालक यूसुफ ने अपनी सवारी का रुपये से भरा पर्स पाने पर पुलिस को लौटाया
Image
प्रतिकार फिल्म चौरी चौरा 1922 में सांसद रवि किशन की दमदार भूमिका,, सीन देख कर दर्शकों की विभिन्न प्रतिक्रिया
Image
284 करोड़ रुपये की ठगी करने वाला अन्तर्राज्यीय गिरोह का डायरेक्टर गिरफ्तार
Image