जमात और दंगो को लेकर दिल्ली पुलिस की भूमिका ठीक नहीं थी:-सुप्रिया सुले नेता एनसीपी


मुंबई। राकांपा सांसद सुप्रिया सुले ने पिछले महीने दिल्ली में तबलीगी जमात के धार्मिक कार्यक्रम की अनुमति देने के दिल्ली पुलिस के फैसले और फरवरी में हुए दंगों को रोकने में उसकी नाकामी पर मंगलवार को सवाल उठाए। तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए कई लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। बारामती से सांसद सुले ने फेसबुक के जरिये बातचीत के दौरान कहा, मेरे जेहन में दो सवाल हैं, इसमें किसी तरह की राजनीति नहीं छिपी हुई है...मैं ये सवाल एक नागरिक की हैसियत से पूछना चाहती हूं। 


राकांपा नेता ने कहा, दिल्ली में (फरवरी में) उस समय दंगे भड़के जब (अमेरिकी) राष्ट्रपति ट्रंप भारत यात्रा पर आए हुए थे। उस समय वहां के पुलिस आयुक्त क्या कर रहे थे? उन्होंने पूछा, इसके आठ या दस दिन बाद दिल्ली में (तबलीगी जमात का) कार्यक्रम हुआ। उन्हीं आयुक्त ने इसकी अनुमति दी। प्रशासन का ध्यान कहां था? प्रशासन ने 10 दिन के भीतर यह सबकुछ कैसे होने दिया। सुले ने पूछा, उस समय दिल्ली का प्रशासन क्या कर रहा था? वहीं, एक फेसबुक उपयोगकर्ता ने जब सुले से पुणे के कोंढवा और सैयद नगर इलाकों को सील करने की मांग की तो उन्होंने कहा कि स्थानीय अधिकारी इन मुद्दों पर काम कर रहे हैं। गौरतलब है कि इन इलाकों में कई लोग जमात के कार्यक्रम से होकर लौटे हैं।


Popular posts
सेंट एंथोनी कॉन्वेंट स्कूल डेयरी कॉलोनी गोरखपुर में महात्मा गांधी एवं लाल बहादुर शास्त्री जी के जन्मदिन पर गीत संगीत और नृत्य का हुआ आयोजन
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image
ईमानदारी का मिसाल बना ऑटो चालक यूसुफ ने अपनी सवारी का रुपये से भरा पर्स पाने पर पुलिस को लौटाया
Image
प्रतिकार फिल्म चौरी चौरा 1922 में सांसद रवि किशन की दमदार भूमिका,, सीन देख कर दर्शकों की विभिन्न प्रतिक्रिया
Image