हमें तेरी मोहब्बत का इम्तिहान लेना है , तेरे साथ गुज़रे वक्त का बयान लेना है तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


एक नए रास्ते का ईजाद किया है हमने ! तुम भी इसी रास्ते पर चले आओ !! चर्चित कवि व मंच संचालक तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु का यह शेर लॉक डाउन पीरियड में चल रहे ऑनलाइन कवि सम्मेलन व मुशायरे पर सटीक बैठता है ! अभूतपूर्व कोरोनावायरस के संक्रमण के चलते इन दिनों पूरी दुनिया में सामाजिक व सास्कृतिक गतिविधियों की मंचीय परंपरा को विराम लग चुका है ! ऐसे में लोग सोशल मीडिया का सहारा ले रहे हैं ! इन दिनों व्हाट्सएप ग्रुपों पर कवि सम्मेलन व मुशायरे की धूम मची है ! इसी क्रम में सृजन संकल्प साहित्य संगम जमुहट आज़मगढ़ उत्तर प्रदेश द्वारा व्हाट्सएप ग्रुप पर अखिल भारतीय कवि सम्मेलन व मुशायरा आयोजित हुआ ! जनपद सिद्धार्थनगर के वरिष्ठ शायर डॉक्टर सुशील श्रीवास्तव सागर की अध्यक्षता व तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु के संचालन में विभिन्न प्रांतों के कवियों और शायरों ने गीत ग़ज़ल व मुक्तक के माध्यम से अपनी अभिव्यक्ति को उड़ान दी ! कार्यक्रम का शुभारंभ डॉ उषा कनक पाठक मिर्जापुर द्वारा वाणी वंदना से हुआ ! डॉ ऊषा पाठक ने पढ़ा -- पावस ऋतु के आ जाने पर मेघ मुदित हो जाता है ! दूर-दूर से जल भरकर वह वसुधा पर उड़ेल देता है !! मध्य प्रदेश के मनोज तिवारी मनसिज ने पढ़ा -- अनमोल ज़िंदगी है अब मौत ना बुलाओ ! घर में रहो सुरक्षित बाहर अभी ना जाओ !! बस्ती उत्तर प्रदेश के शायर रोमित हिमकर ने पढ़ा -- वह बेखबर है गुल कोई टूटा है डाल से ! सूखा है सब्जबाग मेरे इस सवाल से !! मनीष तिवारी सासाराम बिहार ने पढ़ा -- मेघ जैसे काले-काले कुंतलों की ओट ले के ! नैन बाण मुझ पे चला रही है बावरी !! कृष्णानंद दुबे गाजीपुर ने पढ़ा -- मोहब्बत की उम्मीद तुमसे लगी है ! वही आग सीने में फिर जल पड़ी है !! उज्जवल जोशी विरार  मुंबई ने पढ़ा  -- दूर-दूर तक मनहूस वीरानी सी छाई है ! मुझे इंसान की कीमत समझ आई है !! अभय दीक्षित इटावा ने पढ़ा -- तुम लिखो कहानी महलों की ,राजाओं की ,रजवाड़ों की ! मुझको मजदूरों के हाथों में उभरे छाले लिखने दो !! तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु ने पढ़ा -- हमें तेरी मोहब्बत का इम्तिहान लेना है , तेरे साथ गुज़रे वक्त का बयान लेना है ! प्रेम की दुनिया में समर्पण क्या चीज है , बताकर दुनिया को हमें एहसान लेना है !! कवि लखन लाल सोनी छत्तीसगढ़ , मारुति गंगासागरे महाराष्ट्र , रफीक अहमद नागौरी , राजबाला विश्वकर्मा आज़मगढ़ , , सुरेंद्र कुमार सिंह चांस , डॉक्टर नरेश कुमार सागर हापुड़ उत्तर प्रदेश तथा संयोजक व समीक्षक के काव्य पाठ के साथ डॉ सुशील श्रीवास्तव सागर ने पढ़ा -- सच झूठ के आगे कभी हारा न मिलेगा , आकाश से धरती का किनारा न मिलेगा ! तुम चांद के दीदार में मशरूफ यूं रहे , तो चांद क्या टूटा हुआ तारा न मिलेगा !! अंत में संयोजक उदय नारायण सिंह निर्झर ने सभी कवियों तथा ग्रुप के सदस्यों के प्रति आभार ज्ञापित करते हुए कार्यक्रम का समापन किया !


Popular posts
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image
बस्ती:-जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने चार्ज ग्रहण किया,मीटिंग में अधिकारियों को आवश्यक निर्देश जारी किया।
Image
डीआईओएस बताएं सीधी भर्ती का पद पदोन्नति से कैसे भरा गया: जेडी,नियम विरुद्ध पदोन्नति करने के आरोप में प्रबन्ध समिति पर 16 डी के तहत कार्रवाई की चेतावनी
Image